20 मई 2012

दोनों सेम टू सेम ...

नीली चुनर का आसमान रोज मुझे चिढाता है ,
देख मेरा अनंत जहाँ है ....
मैंने उसे अपना दिल दिखाया और कहा ,
जा सिर्फ उसके भीतर झंख कर देखकर आ ,
आज तक वापस नहीं आये ,
वो जो बेतरतीबसे लम्हे भेजे थे उसने भीतर ....
हाँ ये अरमानोका आकाश है ,भीतरकी गहराई लिए ,
दोनों सेम टू  सेम ...

1 टिप्पणी:

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...