6 मई 2012

आमका आचार आमकी गुट्ली

आमका आचार आमकी गुट्ली ,
आमका रस और आमकी चटनी ,
कहती है गर्मी आई है ,
बहुत सारा प्यार लायी है ,
खुद को छुपा लो कमरे में 
लो अब धुप की बारात आई है ....
सोने के टुकड़े बिखरे पड़े है हर राह ,
पर कोई चोर लुटेरा नहीं है इसका ,
सबकी जान पर बन आई है ...
पसीना प्यार करता है चेहरे को ,
और गला पानी की प्यास बढ़ाता है ,
रात छोटे कपडे पहनती है ,
और दिन नौ वार की साडी पहनकर आता है ....
माँ की शामत लाते है बच्चे ,
मामुके घर जाकर भांजे कोहराम मचाते है ,
न किताब ,न बस्ता ,न लास्ट बेंच का जादू ,
न वो लंच बॉक्स बाँटनेकी रिसेस पर काबू ....
चलो गर्मियां पहनते है ,गर्मियां खाते है ,
गर्मी को पी पीकर शरबतमें वेकेशन मनाते है ...

1 टिप्पणी:

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...