3 नवंबर 2011

जवाब हो तुम...

मेरे हर सवालका जवाब हो तुम ,
फिर भी मेरे सवाल अनसुनेसे क्यों लगे ?
================================
कोई किसीको चाहे बेशुमार ये कसूर तुम्हारा नहीं 
क्योंकि चाहत पर कभी इस दिलका इख्तियार नहीं .....
====================================
जो नज़र भी ना आए वो साथ चलते सायेको एक सवाल 
क्यों घने अंधेरोमें तुम मेरे साथ नहीं होते कभी ???????
====================================
जिसे नज़रें ढूंढती जाए हरदम 
वो अक्स तुम्हारे आयनेमें छुपकर बैठा है कहीं ....

2 टिप्‍पणियां:

  1. जिसे नज़रें ढूंढती जाए हरदम
    वो अक्स तुम्हारे आयनेमें छुपकर बैठा है कहीं ....बहुत ही खूब....

    उत्तर देंहटाएं

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...