11 अप्रैल 2013

दो मासूम आँखे

कभी कभी दो मासूम आँखे
नमीसी जमी रहती है जिसमे ,
वो आँखे यूँ ही मुझे दिख जाया करती है ,
कुछ बिना अल्फाज को इस्तमाल किये
एक दास्ताँ बयां कर जाती है ..
कभी कभी दो मासूम आंखे यूँही नजर आ जाती है ...
उसकी आँखों में मुझे एक रोटी दिखती है ,
जो बुझे हुए चूल्हे की राख पर
सिकने के लिए तडपती मचलती ,
और वो खाली पड़ी थाली ,
आटा  मसलने को तडपती हुई ....
वो पानी का घड़ा जिसमे से
गरीबी के खरोचों के निशान लिए एक छेद  है ,
थोडा सा पानी भरकर लाता है ,
और प्यासके सामानसे भूख मिटानेकी
एक नाकाम कोशिश कर जाता है .....
वहां शादी के मंडपके प्रीती भोज के
वो भरे पेटकी दुहाई देती हुई
थालियोंमें छूटी हुई सामग्री ,
जब फेंकी जाती है बाहर ...
लगता है वो उन मासूम आँखोंकी
बस मजाक उडाती है ....

3 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत ही बेहतरीन भावपूर्ण प्रस्तुति,आभार.

    जवाब देंहटाएं
  2. वाह! लाजवाब | अत्यंत सुन्दर कविता | नवरात्री और नव संवत्सर की हार्दिक बधाई और शुभकामनायें |

    कभी यहाँ भी पधारें और लेखन भाने पर अनुसरण अथवा टिपण्णी के रूप में स्नेह प्रकट करने की कृपा करें |
    Tamasha-E-Zindagi
    Tamashaezindagi FB Page

    जवाब देंहटाएं

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...