9 नवंबर 2015

दिवाली …

कुछ कहती है दिवाली
कुछ सुनती है दिवाली
अंधेरो के घेरे में पनपती है दिवाली  .
रौशनी का मोहताज नहीं कोई ,
खुद के अंदर के दीपक को उजागर करो ,
तो रौशनी से जगमगाती है अस्तित्व को  …
चाँद भी अदब करता है उस उजालों का  ,
तब तो सितारों की संगत में
पनपती है दिवाली   …
किसीके दिए में आँसू का तेल न हो
उस आँखों को ढूंढ कर देखो रौशनी में  ,
एक हास्य का लास्य भर दो उस चहेरे पर
वो ही सिखाने के लिए आती है दिवाली   …
रौशनी का मतलब सीखो दिये से  ,
खुद को जलना पड़ता है
अंधेरों से लड़ना पड़ता है  ,
उम्र दिए की भले ही हो एक रात की  ,
उस दिन को   हर साल मनाना होता है   ....
रंगोली के रंग से रंग चुराकर मिठास को
अपने हृदयमें बसाकर   ,
पटाखों की चमक और आवाज से
पुरे साल के इंतज़ार के बाद आती है दिवाली   ....
हर  इंसानों के लिए शुभकामना का प्रतीक
बन इंसानियत को जगाती है दिवाली  .... 

3 टिप्‍पणियां:

  1. ब्लॉग बुलेटिन टीम की ओर से आप सब को दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें !!
    ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन, दीपावली की चित्रावली - ब्लॉग बुलेटिन , मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत बढ़िया प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...