4 जून 2012

एक सीधीसी बात थी .....

लगा था तुम्हे समजनेमें एक उम्र गुजर जायेगी ,
जब समज लिया तुम्हें तो जाना एक सीधीसी बात थी .....
===========================================
राधा बनकर प्यार जताना शायद हो आसान ये सोचा था ,
वहाँ तो सिर्फ बिछोहका दर्द लिए चले जाना देखा हमने ,
मीरा बनकर श्यामको पानेकी चाहत की तो जाना ,
एक दरसकी दीवानीको ज़हरके घूंटको पचाना था ...
प्यारको पाना ये दर्दको सहलाकर मिलने वाली राहतें थी ,
ये दर्दको सहते तुम्हें याद करना मुमकिन न था कभी ,
क्योंकि ये कसकने भुलाने न दिया तेरा नाम कभी .....
बस ये ढाई अक्षरका एहसास अधुरा फिर भी 
खुदको पूरा करनेकी यहाँ रहती है हरदम एक तलाश ....

1 टिप्पणी:

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...