24 अप्रैल 2012

ये सड़क मेरे शहरकी ...

कभी सोई सोईसी लगती है भरी दोपहरमे ,
ये डामरको पिघलाती हुई सड़क ,
ये सड़क मेरे शहरकी है ,
उसकी आखरी तहकी मिटटी पर 
मेरे बचपनके छोटे छोटे पैरोंके निशान है ,
वो नंगे पाँव घूमते थे उसको खुद पर सहेजा है ...
जब बस्तीकी बाढ़ आ गयी इधर ,
और वो दो और चार पहियोंके वजनी राक्षस 
निकल पड़े कुचलने वो बचपन की छाप ,
ये सडकोंने छुपा लिए उन्हें सहेजकर ,
उसे भी था मेरे लौटनेका कोई इंतज़ार ???
आज वो तनहा सिसकती है रातोंमें 
जब सन्नाटा निकलता है प्रहरी बनकर ,
वो मांगती है 
वो बरगदके सारे पेड़ लगे थे जो रस्तेके किनारे ...
पंछीकी चहक नहीं है न घोसलोंका अड्डा ,
अब जैसे सहरा छोडके आया हो रेगिस्तान 
वैसे तपता सूरज होकर सड़क पर मेहरबान ....
तब एक छोटासा बच्चा आया ,
उसने अपने दादाके साथ एक छोटासा पेड़ लगाया ....
सड़क हंस पड़ी .....
उसे अपना घटादार छाँवका भविष्य नज़र जो आया ...!!!

1 टिप्पणी:

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...