25 मार्च 2012

तुम्हारा अफसाना

तेरा लौटकर आना मुझे गंवारा न हुआ ,
डर है की आकर फिर तुम न लौट जाओ .....
===========================================
कुछ लम्हे थे फुरकतके कुछ लम्हे थे फुर्सदके ,
फिर भी उनमे शायद जिन्दा होनेका एहसास न था ....
===========================================
लौटी हूँ  फिर तेरे पास  मेरी कलम और दवात,
ये जानती हूँ की मेरे दिलके सुकूनको तुममे ही पाया मैंने .....
==========================================
न वो दिन था ,न रात थी ,
बस एक ख़ामोशी कुछ कहती रही सहमीसी.....
===========================================
उन पुरानी तस्वीरोंमें क्यों खोज रहे हो ????
ये देखो हर सफे पर हम तुम्हारा अफसाना लिखते रहे अर्सेसे ...

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...