23 जून 2011

आज यूँही थोडा ......

मुझे वो जलती धुप जला ना पाई ,
तेरे प्यार का साया मेरे सर पर था ......
मुझे बर्फ की ठंडक सिहरा ना पाई ,
तेरे प्यारकी गर्माहट मेरे आंचलमें थी .....
मेरे पैर सहराको नंगे पाँव पार कर गए ,
क्योंकि तेरा दुपट्टा मेरे हर कदम पर बिछा था .......
मैं सबसे ऊँची पहाडी पर जा पहुंचा ,
क्योंकि तेरा हौसला मेरे साथ था .........
आज मेरी दुनिया उजड़ गयी ,
मेरे पास धनदौलत सब कुछ था बस एक तु और तेरा प्यार ना था ......

1 टिप्पणी:

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...