11 अप्रैल 2011

सात सुर ....

आज साज़ खामोश पड़े थे ,
सूर उसमे चुपकेसे सोये थे .....
पंचमने निषादसे कहा
आज हवा है मध्धम मध्धम ,
सूरज भी षडजकी तरह
कम तपिशसे गुजर रहा है जैसे ...
रिषभने पलटकर देखा
शायद किसीने पुकारा हो !!!!
वो तो गांधारके गीत थे
होठों पर कांपकर रुके रुके से !!!!
धैवत अकेला तबला पर बैठा
साध रहा था सूर बजाकर तीरकिट धान !!!!!
एय सूर तुम्हे ढूंढ रही है
आज ढलती हुई शाम ,
सूरसंगम के पूल पर उगती है रात ......

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...