12 सितंबर 2010

तेरी तस्वीर


चुपकेसे उसका आना ,

मेरी तनहाईकी ख़ामोशीको तोड़कर ,

मेरे कानोमें कुछ बतियाना ,

फिर खिलखिलाकर हंस देना ,

और हवाओके पंख लगाकर उड़ जाना ,

ये है मेरे प्यार का परिचय ,

तस्वीर बनकर छुपा पलकोंमें

पर आँखोंसे ओज़ल जरा जरा सा ...

1 टिप्पणी:

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...