8 सितंबर 2010

हम या तुम .....

तेरी लिखावटमें हर मोड़ पर मूड जाता हूँ ,
तेरे एहसासको खुद में बारूदकी तरह फूटता हुआ पाता हूँ ,
तेरी हँसीको फिजाओंमें बिखरते हुए पाता हूँ ....
आयने में तेरी तस्वीर खुद की जगह देखता रहता हूँ .......

2 टिप्‍पणियां:

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...