6 जनवरी 2010

उलझन .....

क्या प्यार करने की उम्र होती है कभी ?

हाँ हाँ ये तो कच्ची उम्र के नाबालिग लोगोका काम है ,

ये कौन बोला ? इस प्यारी सुबहके धुंधमें ?

ये तो जरूर कोई दिलजले का काम है ....

====================================

जिससे प्यार किया दिलोजानसे वो तो हमें मिले नहीं ...

पर प्यार को जाना हमने जब हमको प्यार हो गया

उनसे जो हमें ही दिलोजान से चाहा करते है .....

=======================================

क्या सुबह सुबह में लोगो को उलझा दिया हमने ???

बस जिनकी ख़ुशी के लिए हँसते हँसते जान्निस्सार करने को जी चाहा ,

बस उम्र वही है जिसने प्यारकी परिभाषासे हमें मिलवा ही दिया ....

जो होता है जिंदगीमें एक बार ही वो पल से तार्रुफ़ करवा दिया ....

=========================================

2 टिप्‍पणियां:

  1. जिससे प्यार किया दिलोजानसे वो तो हमें मिले नहीं ...

    पर प्यार को जाना हमने जब हमको प्यार हो गया

    उनसे जो हमें ही दिलोजान से चाहा करते है .....


    very touchy.....यह पंक्तियाँ दिल को छू गयीं....

    बहुत सुंदर.....

    उत्तर देंहटाएं

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...