25 नवंबर 2009

मतलब ...!!!

आज हमें देखकर आयना भी परेशां सा लगा ,

उसे भी बदले बदले से नजर आने लगे थे ...

अपने ग़मोंको हम एक हँसी के दामनमें लपेटे चले थे ,

क्या कहे जो जीने की वजह थे वो ही मुंह मोड़े जा रहे थे ....

बस हम तो टूटे खिलौनेसे पड़े हैं घरकी फरस पर बिखरेसे ,

खेले थे हमारे जज्बातोंसे खुदका दिल बहलानेको कभी

और मतलब निकल जाने पर

आज अजनबीकी तरह आँख चुरा कर चले जा रहे थे .....

2 टिप्‍पणियां:

  1. बस हम तो टूटे खिलौनेसे पड़े हैं घरकी फरस पर बिखरेसे ,
    जिन्दगी में ऐसे कई अनुभव हमें मिलते हैं। अच्छी भावाभिव्यक्ति।

    उत्तर देंहटाएं

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...