23 अगस्त 2009

गणपति बाप्पा मोरिया ...




वक्रतुंड महाकाय सूर्यकोटिसमप्रभ ।

निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येशु सर्वदा ॥


हे रिध्धि सिध्धि के स्वामी ,

आपको हर भक्तका कोटि कोटि वंदन ...

हमारे राहमें आए विघ्नको हरें, हम पर आपकी कृपा सदा सर्वदा बनी रहें ....

गणपति बाप्पा मोरिया ,

पुढच्या वर्षी लवकरिया ..

4 टिप्‍पणियां:

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...