21 जुलाई 2009

खुदाया .......

आज खुदासे कुछ दुआ मांगने को दिल हुआ मेरा ,

दर पर जाकर उसके सजदेमें सर झुका दिया ,

बंदगी को हाथ उठे जब मेरे तो ये क्या हुआ ,

तेरे प्यारमें ही मैंने खुदा पाया अय मेरी दिलनशीं ..........

=====================================

तपते शोलों परसे राख की परत फूंकसे उडाना चाहा ,

कुछ जर्रे उड़कर आँखमें गिरे ,बंद हो गई पल के लिए ,

लेकिन सर्द रातोंको अपनी तपिशसे गरमाने की ख्वाहिश ,

मेरी ये चंचल हरकतोंने पुरी कर दी अनजानेमें ......

3 टिप्‍पणियां:

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...