26 जून 2009

एक दरख्त का दर्द बांटे ....

हाथमें आज मेरे एक सितारा आ गया ,

चाँद हथेली में होने का अहेसास आ गया ,

कभी न हो ऐसा खुशीका काफिला आया ,

कुछ पलके लिए जिंदगी जीने का मज़ा आया .........

=================================

कभी पूछ कर देखो वो घने दरख्त को भी ,

कितने सालों से यूँ ही खड़े हो ?

क्या तुम्हारे पैर नहीं दुखे कभी ?

क्या तुम्हे धुप, ठण्ड ,बारिश का अहेसास नहीं ?

तुम पर बैठकर कितने ही परिंदे खुशियों के गीत गाते होंगे ?

कितने पंछी तुम्हारी डाली पर घोंसले बनाते होगे ?

कितने फूलोंकी खुशबुएँ तुम्हे महकाती होगी ?

कितने फलोंसे हुई जुदाई कभी तुम्हे याद आती होगी ?

कितने सूखे पत्ते जुदा होकर तुमसे रोये होंगे ?

कितने नई कोपल के फूटने के दर्द तुमने सहे होगे ?

कितनी हरी डालियाँ ?कितने सुने घरौंदे तुम्हारे साथी बने होगे ?

कितनी बार ये याद करते हुए तुम जड़ों से लिपट कर रोये होंगे ?

चलो आज तुमसे बात करके तुम्हारी तन्हाई को बांटती हूँ ....

तुम्हारे तने को एक बार प्यारसे सहलाती हूँ .....

2 टिप्‍पणियां:

  1. कितनी हरी डालियाँ ?कितने सुने घरौंदे तुम्हारे साथी बने होगे ?

    कितनी बार ये याद करते हुए तुम जड़ों से लिपट कर रोये होंगे ?

    चलो आज तुमसे बात करके तुम्हारी तन्हाई को बांटती हूँ ....

    तुम्हारे तने को एक बार प्यारसे सहलाती हूँ ।

    बहुत ही गहरे भावों के साथ सुन्‍दर अभिव्‍यक्ति, बधाई

    उत्तर देंहटाएं

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...