23 जून 2009

हाइकु :मौसमकी पहली बारिश

आंधी तूफान

संगी साथी है तेरे

पहली वर्षा .....

===============

चुपके छुई

रात बुन्दोने भूमि

फिजा महकी .....

===============

चुपके हुआ

धरती का नर्तन

बुन्दोंमें नहा ....

==================

जुल्फें बरसी

शबनमी मौसम

भीगा चेहरा ......

===================

खता तेरी है

प्यार हो ही जाना था

भीगे हुस्न से ......

===================

2 टिप्‍पणियां:

  1. चुपके छुई

    रात बुन्दोने भूमि

    फिजा महकी .....

    ===============

    चुपके हुआ

    धरती का नर्तन

    बुन्दोंमें नहा ....

    प्रीती जी प्रक्रति क| बहुत ही खूब मानवीय बर्णन किया है बधाई स्वीकार करे
    सादर
    प्रवीण पथिक
    9971969084

    उत्तर देंहटाएं

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...