9 दिसंबर 2008

अब नए सफर पर हम चल दिए .....

जज्बात हमारे जिंदगी के सफों पर लिख कर हम लाये थे ,
पर उस पर कहीं पर नाम नहीं लिखा तुम्हारा डर से रुसवाई की ,
दिलमें लिए मोहब्बत तुम्हारी ,रोशन होते रहे हमारी मोहब्बत के चिराग ,
खुशकिस्मती हमारी यह रही ,तुम भी हमारी नजरों को पढ़ पाये थे ,
तब ही तो तुम्हारे अब्बुजान कल यहाँ तुम्हारे रिश्ते का पयगाम लेकर आए थे ।
===========================================================
आजका एक सुनहरा पृष्ठ , इतिहास से है जुड़ गया ,
जिन्हें जी लिए हम लम्हा लम्हा करके ,
वो एक युग का रूप है धर गया ।
जो दिन हमें लगे थे अश्कोंसे उभरते हुए ,
किनारे पर आकर मोतीसे लगने लगे ,
नई उम्मिदोंके साथ कदम बढाकर ,
अब नए सफर पर हम चल दिए .....

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...