4 फ़रवरी 2017

हमारा मिलना जरुरी है .........

वो दिल थी मैं धड़कन  ,
वो सांस थी मैं गर्माहट ,
वो आयना थी मैं अक्स ,
वो बहार थी मैं फ़िज़ा  ,
वो चाँद थी मैं सितारा ,
वो धरती थी मैं गगन ,
वो आस थी मैं प्यास  ,
वो नदी थी मैं किनारा  ,
वो जान थी मैं जिस्म  ,
वो ग़ज़ल थी मैं काफिया ,
फिर भी
वो अपूर्ण थी और मैं भी  ,
इस लिए पूर्णत्व की खोज में
हमारा मिलना जरुरी है  ......... 

2 टिप्‍पणियां: