4 नवंबर 2015

नीले आसमानों पर

ख्वाबों के नीले आसमानों पर
हसरतें लिख रही है कुछ दास्ताँ अनकही सी  .
रातों को नींद बैरी बनकर ठिठोली करती ,
मेरे कमरे से दीखते चाँद को दिखाकर
चिढ़ाती  है मुझे अक्सर  ....
चाँद देखकर मुझे हौले  मुस्कुराया ,
मैंने भी उसके इस्तकबाल  के लिए
 एक नज़्म को धीरे से गुनगुनाया   …
मेरी और चाँद  गुफ्तगू बस चल रही थी
और पीछे से  हसरतने आवाज लगायी
वो  नूरानी हयात बनकर सामने खड़ी थी  …
मैं और चाँद दोनों बूत बने देखते रहे
और सुबह हो गयी  .... 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...