19 जुलाई 2013

सरकता हुआ वक्त

रेत घडीसे सरकता हुआ वक्त ,
समेटनी की कोशिश करते ,
कितने लम्हे हथेली पर चिपक गए !!!
गीली सिली थी जो यादों से ....
खरोंचते हुए हथेलीको ,
नयी लकीरें बनाने की कोशिश की ,
वो तक़दीर की लकीरें ही मिटा दूँ ,
जिसमे जुदाई लिखी थी ...
अब ये खरोंचों से फिर से खिंची है ,
एक नयी लकीर जो
तुझे मेरी तक़दीरमें लौटने का पयाम लायी है ....
न तक़दीर थी ,न तदबीर थी ,
बस एक खयालसा आ कर चला जाता है
ऐसे ही मेरे जहनमें गुपचुप गुपचुप ...
जब रातमें वो सितारें देखती हूँ एकटक ...!!!!

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...