6 मार्च 2013

दस्तक ....

कल कोई दस्तक देकर गया ,
मैंने झाँका दरारसे तो
वो एक ख्वाब था ,
काले कम्बलमें लिपटा हुआ .....
चुपचाप वो लौट गया
मैं किवाड़ खोल ही नहीं पाई ,
आने में उसने देर कर दी थी ...
क्या बताऊ उसे मैं  ???
मेरे पांव तो अब हकीकतकी
बेड़ियों में झकड़े हुए है ......

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...