6 जुलाई 2012

यादोंमें तस्वीर बनकर चलते है ..!!!

कुछ अरमान हमारे कुंवारे रह जाते है ,
उसकी मांग सुनी होना तक़दीरमें लिखा है .....
===================================
कदमोंको चलते हुए राहोंकी तलाश है ,
कौन समजाये की चलने पर राह बनती है !!!!
===================================
तुम रिश्तोंका रूप बदलते रह गए हरदम ,
बस ये न देखा की हर रिश्ता हम तक ही पहुंचा है !!!!
===================================
तुम्हे तक़दीरने डाल  दिया  मेरी झोलीमें ,
हमने उसे दुआ समजकर कुबूल कर लिया !!!
===================================
रह रह कर आँखें भर आती है यूँ ही बैठे बैठे ,
जब बीते हुए हर पल यादोंमें तस्वीर बनकर चलते है ..!!!

1 टिप्पणी:

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...