19 जून 2012

किसीके प्यारमें गरिफ्तार है ......

तेरा घर कहाँ ये पता है मुझे ,
इस लिए तेरा पता न पूछा कभी मैंने .....
======================================
एक भूखे बचपनको
रोटी नज़र आती है चाँदमें भी ....
======================================
खुदकी दिलकी गली भूलने वाले
भटकते रहते है दर ब दर प्यार के लिए .......
======================================
जो दिलके करीब है वो रिश्ते जिस पर नाज़ है ,
वो भी कभी मुझे मिले थे अनजाने शहरकी अनजान डगरमें ..
=======================================
तपिशमें जब ठण्डका एहसास हो किसीको ,
तब समज जाओ वो किसीके प्यारमें गरिफ्तार है ......
=======================================
गर नए रंग भरनेकी चाहत है तुम्हे तो ,
पहले केनवास कोरा करना होगा ......

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...