30 अप्रैल 2012

वो दिन याद आता है ,

वो दिन याद आता है ,
जब चाचाकी बेटी सो रही थी सुबहमें ,
उसकी चोटीके बाल उसकी नाकमें घुसाकर,
उसको हम जगाते थे ....
वो दिन भी याद आता है ,
जब किरायेकी सायकल लेकर 
छोटी गलियोंमें धूम मचाते थे ,
घुटनों पर गिरनेके निशानके ओटोग्राफ लेकर घर आते थे .....
वो दिन याद आता है ,
जब स्टापू,गुल्ली डंडा ,गिट्टे की धूम मचती थी ,
शामको हुतुतू ,खो खो और लंगड़ी घोड़ी घुमती थी ,
केरम, लूडो ,चाइनीज चक्करसे दोपहर सजती थी ......
वो दिन भी याद आता है ,
मामा हमें लेने आते थे ,
मामीके घरमे एक लम्बी कतारमे हम 
एक थालीमें दो जन खाते थे ,
बिछड़ते वक्त छोटी आँखोंमें बड़े बड़े आंसू भर आते थे ......
दिन तो वो आज भी है ,
पर रंग ढंग बदल गए है ,
बचपनकी शरारत तो है 
बस उसे करनेवाले कहीं चले गए है ....

1 टिप्पणी:

  1. बेहतरीन भाव ... बहुत सुंदर रचना प्रभावशाली प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...