20 मार्च 2012

तुम याद आये

हर शामकी तन्हाईमें
तुम याद आये ,
जब चाँद निकला शर्माता हुआ दरख़्तके पीछे से
तुम याद आये ,
तुम्हे सोचनेके लिए आँखे बंद कर दी
तुम याद आये ,
तुम्हे भूल जानेकी खता न कर सके क्योंकि
हर पल तुम याद आये ......
जब चिड़िया की चहक गूंजी फिज़ाओमें
तुम याद आये ,
जब कोयलने दी पहली हुक
तुम याद आये ,
हाथोंकी रेखाओमें दिख रही तस्वीर क्योंकि
तुम याद आये ,
तक़दीरमें किसे ढूँढने जाए अब जब हर यादमे
तुम ही याद आये ....

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...