5 मार्च 2012

नहीं भुलाया तुझे ..

कुछ नहीं कहती हूँ ,बहुत खामोश हूँ ,
खयालोमें उसके गुमशुदा हूँ ,क्योंकि मैं प्यार मैं हूँ ..
=======================================
मुझे अंदाज़ बयां करने नहीं आते इश्कके ,
बस समज सको तो समज लो मेरे दिलकी गवाही को ....
=======================================
तुम मेरे इकरारके इंतज़ारमें हो ये पता है मुझे ,
बस कभी मेरे सामने आकर मेरी नज़रोंको पढ़ लो ....
=======================================
जब सारा कारवां छंट जाएगा जो तुम्हारे गिर्द है ,
तब मेरा चेहरा नज़र आएगा जिसे सिर्फ तुम्हारा इंतज़ार है ..
=======================================
मुझे कातिल कहो या काफ़िर तुमसे गिला नहीं ,
इसी बहाने हर पल तुमने  याद किया है सिर्फ मुझे  ...
=======================================
तुम्हे याद करनेके लम्होंको वजहकी जरुरत नहीं मुझे ,
तुम एक पलके लिए दूर नहीं मेरे दिलसे ,नहीं भुलाया तुझे ..

1 टिप्पणी:

  1. कुछ नहीं कहती हूँ ,बहुत खामोश हूँ ,
    खयालोमें उसके गुमशुदा हूँ ,क्योंकि मैं प्यार मैं हूँ ..खुबसूरत अल्फाजों में पिरोये जज़्बात...
    ===================================

    उत्तर देंहटाएं

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...