31 जनवरी 2012

मुझे पुकार रही है ,

आज फिर एक बार जिंदगी मुझे पुकार रही है ,
और मेरे पास वक्त नहीं उसकी तरफ देखने का ,
क्या है कभी जिंदगी बोर होती है 
तो वो मुझे बुलाती है ,
और जब मैं बोर होती हूँ तो ...
तो ...
तो ...
मैं कुछ धमाल करना शुरू कर देती हूँ ...

1 टिप्पणी:

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...