19 नवंबर 2011

मेरे खयालोमें आया न करो

तेरे नामकी कशिश तो ये रही ,
मैं जलती रही बिरहा की आगमें ,
याद करने की फुर्सत कहीं नहीं अब
भुलानेको कभी तुझे वक्त मिला ही नहीं ......
=================================
मेरे सिरहाने एक शब सहला रही थी ख्वाबको,
बड़ा बेताबथा वो भी मेरी आंखमें समाने को .........
एक सफे पर वो ख्वाब खुदको लिखता रहा ,
सहरमें पढ़ा उसे तो ये दास्ताँ दिलकी नज़्म बन चुकी थी ......
=======================================
बस इस तरह मेरे खयालोमें आया न करो ,
डर ही मुझमे मेरे लिए कोई जगह न बच पायेगी ........
=========================================
खुदके निशाँ ढूँढने निकले तो
हर कदम हर पल पर तुम आशियाँ बनाकर बसे थे ....
========================================
बेचेन रूहको तलब है एक सुकूनकी ,
फुरकतमें फिर वो लम्हे सहलाने के लिए .......

1 टिप्पणी:

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...