26 अक्तूबर 2011

हार्दिक अभिनन्दन....

जिंदगीके अँधेरेको एक ज्योतिसे उजागर करने का पर्व 
हर कड़वाहटको मिठासमें बदल देनेका अवसर 
तिमिरसे उजालो तक का एक सफ़र 
जीवनपथको रंगोंसे सजा लेनेंका मौसम 
हर नए पुराने रिश्तोको प्यार की लड़ीमें पिरो लेने का त्यौहार 
दीपोंसे ज़गमगाती ,
मिठाशकी महक लिए ,
मनआँगनमें सुनहरे  रंगोकी रंगोली सजाये 
ये पुण्य पावन अवसर दीपावली पर सभी को 
मेरी और से हार्दिक अभिनन्दन 
और 
नववर्षकी शुभकामनाएं .......

1 टिप्पणी:

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...