27 अगस्त 2011

कांपते लब ....



कांपते लबोंसे जो बयाँ ना कर पाए ,



वो इश्कका इज़हार हमने तेरी आँखोंमें पढ़ लिया ......



==================================



ख्वाबोंसे जगाकर एक उल्ज़ीसी लट



रुखसार पर आकर ठहर जाती है जब ,



गवाही दे जाती है ये हवाकी सरसराहट भी ,



बस आपने शायद हमें याद किया है .....



================================



शर्मों हया की लाली से सजती है मेरी सांज



इश्कके सदकेमें जैसे मेरी हर दुआ मुक्कमिल हो जाती है ......


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...