23 जुलाई 2011

एक कब्र ...

सतरंगी बारिशकी चुनर श्यामा हो गयी ,


क्या कहें क्या रहा होगा तुम्हारा नज़रे करम !!!


मेरी हर ख्वाहिश दबी हुई फिर जवां हो गयी ,


एक गरीबके नसीब पर सारी कायनात मेहरबां हो गयी !!!!!!


========================================


ना सोचा था ये भी होगा प्यारमें कभी


आरजूके सारे दरीचे इश्ककी कब्र पर


कफ़न बनकर सज जायेंगे हमारी ,


वो हमें जिन्दा गाढकर दफ़न कर जायेंगे !!!!!


=================================


इस ठोकरने सिखाया हमें ,


गैर तो गैर ही रहेंगे हमारे ना हो पाएंगे ,


आपकी हर वफ़ाकी कीमत


सारे जहाँकी दीवारों पर


हमें बेवफा करार कर दिया ....


हमें रुसवा करके सरे बाज़ार नीलाम कर दिया .....


फिर भी शुक्रिया आपका ,


तुम्हारे दिलमें नफ़रत और हमारे दिलमें प्यार बनकर


इश्कका नाम ऊँचा कर दिया ........

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...