8 जुलाई 2011

बहकीसी बुँदे .....

कलसे मौसम कुछ गुनगुना रही थी ,
हौलेसे जैसे किसीसे प्यारका इज़हार कर रही थी ,
नज़्मसी बहकीसी बुँदे ,
पानीसे एक आग लगाकर चली गयी ,
सारी फिज़ाओमें कुछ इश्किया नशा महसूस महसूस किया ,
बस एक पुरानीसी तस्वीरसे धुलकी परतें उतरती गयी ....
वो बारिशकी बुँदे , वो खुशबु भीगी मिटटी की ,
वो दिये जलते हुए आँखोंमें उनके इंतज़ार के ...........
एक ख्वाहिश गुनगुनाती हुई ,
एक ख्वाहिश इस सावनमें भीग जाने की ....
धीरे धीरे धीरे जैसे चढ़ता नशा ......
मौसमका या इश्क का !!!!!

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...