21 मई 2011

एक जर्रा

उड़ती है धरती एक एक जर्रे जर्रे का रूप धर ,
पता नहीं किस ख़ुशीसे वो हवा के संग बहती है ????
लगता है कोई कह रहा है कानमें जैसे
एक जर्रे को भी बादलसे मोहब्बत हो गयी हो जैसे ....

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...