26 मार्च 2011

दर्द के चर्चे

रातकी हर करवट एक सिलवट बनाती गयी ,
मेरे खयाल को मढ़ दिया हर सिलवट पर .....
================================
दर्द की काली स्याही को
बिदा कर दिया दुल्हनके सुर्ख जोड़े में सजाकर ....
=================================
नश्तरसे गुजरती हर गलीमें तेरी बेवफाई के चर्चे थे ,
रास्ता पूरा टूटे हुए दिलों की किरचोंसे सजा हुआ था ....
==================================
अफ़साने तो लिखे थे वफ़ाके शहरकी हर दीवार पर ,
पर हर अफसाना अधुरा था मेरा तेरे नाम के बगैर ....

1 टिप्पणी:

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...