26 मार्च 2011

बिन तेरे

तुमने सोचा होगा तेरे बिन हम ना जी पाएंगे !!!
भ्रम छोडो हम अकेले चाय नहीं साथ भजिया भी खायेंगे ....
बिन तेरे खिटपिट करने वाला कोई होगा नहीं
तो रोज सुबह नौ बजे तक हम चैन से सो तो पाएंगे ....
बिन तेरे कौन रोकेगा हमें लेट नाईट मूवी देखने से
यारोदोस्तोंकी टोली में देर रात तेज बाईकिंगका मज़ा भी लेकर आयेंगे ....
बिन तेरे डायेट की भी छुट्टी होगी कुछ दिन तो
जी भर के पिज़ा ,वेफर्स ,चोकलेट ,आइसक्रीम ,हलवा जलेबी कजुकतरी खायेंगे .....
बिन तेरे मोबाइल को रखेंगे हम साइलेंट मोड़ पर ही
चलो अब तो ऑफिस में हम काम तो ठीक से कर पाएंगे ....

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...