21 फ़रवरी 2011

गुजारिश

एक पंछी को सीखना है पंख पसारना ,
एक पंछी को पंखो को खोलना सिखा दो ,
बहुत उड़ाने कैद है छोटे छोटे पंखो में ,
आओ उसमे आसमां की उचाइयां भर दो .....
ख्वाहिशोंसे ऊँचे होसलो पर सवार उसका मन ,
देखो गगन छूकर निकल जाने को बेक़रार है ........
एक पेड़ की टहनी है उसके ठहरने के इंतज़ार है ,
कुछ तिनके पड़े है राहोंमें उसका घोसला बनने को ,
कुछ दाने बिखरे है एक घर के अहातेमें चुगनेके इंतज़ारमें ,
बस एक बार पंख फैला दे तु ,
सारी कायनात तेरी स्वागत में बेक़रार है ........

2 टिप्‍पणियां:

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...