30 सितंबर 2010

कुछ अजीब सा

कुछ ना बोलना भी बहुत कुछ कह देता है
और ये शोर भी कभी खामोशसा होता है ,
हर वक्त कोई आह्टका इंतज़ार होता है ,
बस येही जद्दोजहद कश्मकशमें जिन्दा होनेका एहसास होता है ...

1 टिप्पणी:

  1. जिन्दगी के विरोधाभास ही शायद जिन्दगी के एहसास का माध्यम है.

    उत्तर देंहटाएं

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...