9 अगस्त 2010

रत्ती भर जगह ....

मुझे मेरी तनहाईने तनहा न किया
तेरी याद हर पल साथ चलती रही ......
=============================
तेरी यादोंमें कल बरसात बहुत थी ,
छाता लेकर चल रहा था फिर भी भीगता रहा .....
================================
कोरे कोरे से दिल पर नाम लिखने की कोशिश की ,
तेरी यादोंने उस सफे पर रत्ती भर जगह ना छोड़ी थी ....

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...