3 अगस्त 2010

वो फिर ना आएगा कभी ....

बज़्म सजी थी ...
एक हुजूम था दोस्तोंका ...
नज्मे मेहमान बनकर आई थी ,
इरशाद और अर्ज़ किया है की गुजारिशे थी ........
वो आया ...
दरवाजे पर खड़ा रहा था ....
उससे नज़र मिली ,पर वो तशरीफ़ ना लाया ...
बज़्म मैंने भी न छोड़ी ये सोचकर कि मिल लेंगे बाद में ...
वो लौट गया ....खाली खाली निगाहें लेकर .....
दुसरे दिन उस वक्त नज़र दरवाजे पर गयी ,खाली लौटी ....
फिर निगाहें दरवाजे को तकती और खाली हाथ लौटती रही .....
अब तो भरी बज्मे भी खाली महसूस होने लगी थी ....
अब तो नज्मे भी बे मतलब लगने लगी थी .....
भरी महफ़िल भी तनहा करने लगी थी ......
रस्ते पर पसीना पोंछने रुमाल निकाला ....
ये वही रुमाल था जिससे उसने मेरे आंसू पोंछे थे ....
मैं जिंदगी हार गया था तब जीत की उम्मीद दिलाई थी .....
उसे संदूकमें संभालकर रख दिया कीमती जेवर के साथ ....
अभी भी लौटती है नज़रें खाली हाथ दरवाजे से होकर .....
वो अब फिर ना आएगा कभी ये संदेसा लेकर ....

3 टिप्‍पणियां:

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...