6 जून 2010

करवट

हौले से करवट लेती है मौसम ,

गरम सूरज पहने हुए स्वेटर हटा देता है ....

गरम सूरज करने लगता है मोहब्बत टूट कर धरतीसे ,

तो काले बादल आकर इस मोहब्बतसे जलकर

आंसू बहाने लगते है .......

छाते और रेनकोटसे ढंककर इंसान अपने को बचाता है उससे ,

क्या जाने ये अनजाना ये मौसममें भीगकर

कौनसी ख़ुशी को गँवा कर आता है ...

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...