20 मई 2010

४६ डिग्री गरमी के आलम में ...

आसमांकी गरमा गर्म हवामें एक खूंटी पर

टांग दी गयी हो जैसे मेरे घर की छत ...

मुंडेर पर ठहरा घडी भर एक परिंदा

थोड़ी सी छाँव की आस में ...

मट्टी के मटकेसे रिज़ रही थी कुछ गलते जल की बुँदे

जैसे मटके को भी पसीना आ रहा था .....

बस उस बूंदोंसे प्यास बुझा कर अपनी

वो पर फडफडाते हुए उड़ गया गगनमें दूर कहीं ....

और इस पर हँसते हुए सूरजकी

खिल्खिहत गूंजी ख़ामोशीका लिबास पहने ...

आगकी कुछ और तेज लपटें उगली गयी उस पर

और ये गर्म बैसाख कुछ और झुलसा गया ......

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...