19 मई 2010

एक बेकरारी ...

ना निगाहें मिली थी ना कोई फ़साना बना था

बेगानोंके इस जहाँमें फिर भी कोई अपना सा था .....

====================================

इंतज़ारका शहद घोलता गया

इकरार भी प्यास छोड़ता गया ,

आँखोंमें उनके आने का बहाना ,

मिलनेकी बेकरारी छोड़ता गया .......

================================

शिकवे शिकायत का ये मौसम तो नहीं ,

दूरी भी बन सकती है मजबूरी कभी

ये हमें आपको बयां ना कर पाए कभी

क्योंकि ...

एक निगाह काफी है इजहारे इश्कमें

कोई लम्बी तकरीर की जरूरत नहीं .....

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...