30 अप्रैल 2010

गुजरात के पचास साल .....

आज दिल बहुत खुश है ...कल हमारा गुजरात राज्य अपनी पचासवी वर्षगांठ मना रहा है ...प्रगति के पथ पर उसकी पहचान दुनिया को मिल गयी है ...राजकीय बातों से परे उसकी प्रगति पर गुजराती होने के नाते मुझे गर्व है ....

मैं शाम को जब टहलने जाती हूँ तो इस सीज़नमें आम की लारी लेकर बैठी ग्रामीण औरत मोबाइल पर किसीसे बात कर रही थी ...झोंपड पट्टी में भी फ्रीज़ ,टीवी पाए जाते है ये सब समाजके निम्न स्तर तक पहुंचे है ये देखकर ही बहुत ख़ुशी होती है .....

मेरा गुजरात ही नहीं मेरा पूरा देश ऐसी तरक्की करे ये ही मनोकामना ......

2 टिप्‍पणियां:

  1. बधाई हो आपको और आपके मुख्यमंत्री को, जिसने गुजरात का काया पलटने का काम किया है /अच्छी वैचारिक और इन्सान के कुछ अच्छा सोचने से उपजी इस बिचारोत्तेजक रचना के लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद / अच्छा और ईमानदारी भरा सोच ही ,आज इस देश और मानवता को बचा सकता है / आशा है आप इसी तरह ब्लॉग की सार्थकता को बढ़ाने का काम आगे भी ,अपनी अच्छी सोच के साथ करते रहेंगे / ब्लॉग हम सब के सार्थक सोच और ईमानदारी भरे प्रयास से ही एक सशक्त सामानांतर मिडिया के रूप में स्थापित हो सकता है और इस देश को भ्रष्ट और लूटेरों से बचा सकता है /आशा है आप अपनी ओर से इसके लिए हर संभव प्रयास जरूर करेंगे /हम आपको अपने इस पोस्ट http://honestyprojectrealdemocracy.blogspot.com/2010/04/blog-post_16.html पर देश हित में १०० शब्दों में अपने बहुमूल्य विचार और सुझाव रखने के लिए आमंत्रित करते हैं / उम्दा विचारों को हमने सम्मानित करने की व्यवस्था भी कर रखा है / पिछले हफ्ते अजित गुप्ता जी उम्दा विचारों के लिए सम्मानित की गयी हैं /

    उत्तर देंहटाएं
  2. गर्व तो हम भी महसुस कर रहें. कुछ कार्यक्रमों में हिस्सा भी लेना है. अभी तो जय जय गरवी गुजरात!!! माहौल बनने लगा है.

    उत्तर देंहटाएं

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...