26 दिसंबर 2009

धन्यवाद .......

चलो नए साल को हँसते हँसते बिदा करते है ...........................................

आप आप है ,हम हम है

प्याज नहीं काटे ,फ़िर भी आँखे नम है ,

सप्लाय ना होनेसे सब्जी में आलू कम है .....

इससे बकवास शायरी बनाओ ,गर आपमें दम है ...................

========================================

एक रावण, दस सर ,बीस आँखें ,फ़िर भी एक ही नजर सीता माँ पर ,

और ..........................

एक तुम ,एक सर ,दो आँखें ,फ़िर भी नज़र

आती जाती हर लड़की पर

अब बोलो रावण कौन ??????????????????????????????

=========================================

रस्ते पर खड़े संताने एक आदमी को टाइम पूछा ....

उसने घड़ी देखकर कहा ," छ: बजे है ॥"

ये सुनते ही संता ने खम्भेके साथ सर पटकना शुरू कर दिया .....

बनतासिंह ये देखकर पूछने लगा ," ओये ,प्रॉब्लम क्या है ?"

संता ," यार ,सुबह से टाइम पूछ रहा हूँ !!!!!सब अलग अलग ही बता रहे है ........."

==================================================

नए सालमें आप जो भी निर्णय लें कृपया ये जरूर ध्यान दे :

आँखें बंद करें ......दिल की आवाज सुने .....दिमाग का इस्तेमाल करें .......और फायनली

आपकी पत्नी आपसे कहें वैसा ही करें .......................

धन्यवाद ................

1 टिप्पणी:

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...