26 नवंबर 2009

छब्बीस ग्यारह ...


आज छब्बीस नवम्बर है ... मुंबई के आतंकवादी हादसे की पहली बरसी ...


जेड ग्रेड सेक्योरिटी बगैर एक कदम घर के बाहर नहीं निकालने वाले भ्रष्ट राजनेताओंके चेहरे पर करारी थप्पड़ मारनेवाले वो मुंबई पुलिस के जांबाज़ पुलिस कर्मी अफसर ,जवानों की शहादत ,निर्दोष लोगोका आतंककी वेदी पर अपनी जानका बलिदान ,और एन एस जी कमांडो की वीरता भरी कार्यवाही को मेरा सलाम ....


आज आपके देशप्रेम के आगे हम सभी भारतवासीयों का शिर नतमस्तक है ......

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...