10 अक्तूबर 2009

बदलते मौसम

सांवरीसी सूरत पर उलझकर अटक जाती है एक लट

उस एक तारी जालमें उलजकर कितने मौसम खुशगवार हो जाते है !!!!!!

==========================================

राहों पर पथरा रही नज़र ,

तुम्हारे दीदार पर ,

सुलगती तीली दियेकी तरह

अंगुली को चटखा गई ........

=========================

दीवालीका ये तोहफा मुझे दे दो ,

वतन पर जांनिसार करनी है ,

मुस्कान ओढ़कर लबों पर ,

सरहद पर जाने की इजाजत दे दो .....

2 टिप्‍पणियां:

  1. उस एक तारी जालमें उलजकर कितने मौसम खुशगवार हो जाते है !!!!!!

    ==========================================
    waah ye mukhde par lat ki ada gazab dha gayi.

    उत्तर देंहटाएं
  2. सरहद पर जाने की इजाजत दे दो .....
    बेहतरीन प्रवासी दर्द

    उत्तर देंहटाएं

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...