7 सितंबर 2009

चल कहीं दूर निकल जाए ......

कुछ नया दस्तक दे रहा है

दरवाजा खोलने को मन राजी नहीं ....

पुरानी यादोंने घर पर डेरा जमा रखा है ...

अय अजनबी तुझे कहाँ पर पनाह दूँ ?????

================================

अय दोस्त काश एक एहसान हम पर कर जाता ,

तू तो चला गया हमसे दूर तेरी यादें भी संग ले जाता .......

1 टिप्पणी:

  1. पुरानी यादोंने घर पर डेरा जमा रखा है ...

    अय अजनबी तुझे कहाँ पर पनाह दूँ ?????

    sach kaha ye dil purani yaadon ko bhulta nahi aur naye rishte dastak dene lagte hai,bahut khub

    उत्तर देंहटाएं

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...