20 जुलाई 2009

तन और मन

पाँव थक जाते है कभी लंबा चलते हुए ,

मन कभी थकता नहीं पाया ....

हाथ छालोंसे भर गए मेरे पर

दिल को जलता नहीं पाया मैंने .......

==================================

जवां रहता है इंसान अपने तरोताजा मनसे ,

तन पर ज़ुर्रियाँ चाहे कितनी ही पड़ जाए ......

कठिन काम हो कितना ही मगर

हौसलेसे जवां लोगको उम्र का तकाज़ा न रुका पाए .......

3 टिप्‍पणियां:

  1. पाँव थक जाते है कभी लंबा चलते हुए ,

    मन कभी थकता नहीं पाया ....

    हाथ छालोंसे भर गए मेरे पर

    दिल को जलता नहीं पाया मैंने
    waah behtarin,lajawab

    उत्तर देंहटाएं

विशिष्ट पोस्ट

मैं यशोमी हूँ बस यशोमी ...!!!!!

आज एक ऐसी कहानी प्रस्तुत करने जा रही हूँ जो लिखना मेरे लिए अपने आपको ही चेलेंज बन गया था । चाह कर के भी मैं एक रोमांटिक कहानी लिख नहीं पाय...